Search
Library
Watch fullscreen
2 days ago|40 views

कोरोना के डर से इस तरह कर रहे खरीदारी

RajasthanPatrika
RajasthanPatrika
चूरू. कोरोना संकट से जूझ रहे पूरे देश में लॉक डाउन के बीच भी जगह-जगह से आ रही कुछतस्वीरें ऐसी भी हैं, जो लोगों में इस महामारी को लेकर संजीदगी का अहसास करा रही हैं। चूरू से भी नवरात्र के पहले दिन यानी बुधवार को आई कुछ ऐसी ही तस्वीरों ने जैसे नर्म हवा के झोंके जैसा सुखद अहसास कराया। दरअसल, चूरू जिले के कईहिस्सों से आई ऐसी चंद तस्वीरें, जहां शहर के बाकी इलाकों को एक संदेश देती हुई प्रतीत हो रही थीं, तो वहीं व्यापारी समुदाय में जनजीवन की सुरक्षा के प्रति संजीदगी का भी अहसास करा रही थीं। हम बात कर रहे हैं चूरू में कई जगह लॉक डाउन के दौरान खुली ऐसी किराना व दवा दुकानों की, जहां गोल घेरे में खड़े होकर लोग सामान खरीदते अनुशासन के साथनजर आए।
गौरतलब है कि बुधवार की सुबह फोन पर कुछइलाकों में किराना की दुकानों पर और दूध के लिए बूथों पर मची आपाधापी की सूचना के बाद जब पत्रिका ने मौका निरीक्षण किया, तो गलियों में जहां लोग प्रधानमंत्री की अपील पर अधिकांशत: तो अपने घरों में दिखाई दिए, लेकिन कई ऐसी गलियां भी दिखीं, जहां लोग अपने-अपने घरों के बाहर चबूतरे आदि पर बैठे एक दूसरे को बुला कर आपस में गप्पबाजी करते भी दिखाई दिए। इसी तरह राशन की दुकानों पर भी लोगों की भीड़ देखी गई। लोग थैलियों में भर-भर कर कुछ इस तरह सामान ले जा रहे थे, मानों उन्होंने मान लिया हो कि महीनों ऐसे ही हालात रहने वाले हैं।बावजूद इसके कुछ दृश्य ऐसे भी मिले, जो आंखों को सुकून देने वाले थे। गढ़ चौराहे के पास और कोर्ट रोड पर ऐसा ही नजारा देखने को मिला, जहां किराने की कई दुकानों के बाहर लोग एक घेरे के अंदर खड़े नजर आए। यह व्यवस्था कई जगह तो नगर परिषद और जिला प्रशासन ने कराई थी, तो कई जगह देखा-देखी अन्य दुकान मालिकों ने भी कर दी। कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे के बीच निकला यह रास्ता वास्तव में बेहद कारगर साबित हुई। व्यवस्था के तहत हर आने वाले को दूर से ही देखकर खाली गोले में जाकर खड़ा हो जाना था। जैसे ही आगे के गोले वाला सामान लेकर निकलता, उसे उस गोले में जाकर खड़ा हो जाना था और वहां से सामान लेना था। इस सारी कवायद में दुकान मालिक को ग्राहकों को लेकर ज्यादा कवायद भी नहीं करनी पड़ी। ग्राहक भी दुकान के बाहर बने कई घेरों में से खाली घेरे को देख कर खड़े हो जाते थे और शांति के साथअपनी बारी की इंतजार कर रहे थे।

Browse more videos